Home / Thoughts / POEM मैंने कुछ ना हासिल ख्वाबों को सजा के रखा ह...
queenn

POEM
मैंने कुछ ना हासिल ख्वाबों को सजा के रखा है,
तेरे लिए आज भी इस दिल में एक आशियाना बना के रखा है…

ना कर सके हम कुछ बात,
इस दिल में अधूरे से रह गए वो एहसास,
उस रात की खामोशी में हम अपनी यादें सजाते रह गए,
तुम्हारे लिए एक आशियाना बनाते रह गए।।

उस चांद ने हमें रोकना चाहा,
उन तारों ने भी हमें टोकना चाहा,
हम फिर भी तुम्हारा साथ निभाते रह गए,
तुम्हारे लिए अपने दिल में एक आशियाना बनाते रह गए।।

अश्कों ने बता दिए थे इश्क के हालात,
हम फिर भी अपने जज्बातों को छुपाते रह गए,
और इस दुनिया के सामने मुस्कुराते रह गए
कि अपने दिल में एक आशियाना बनाते रह गए।।।

- Queenn 👑

3 Comments

Dear User, for your own safety, we urge you to NOT share any personal information [email, phone number, social media handles, address etc.] with other Now&Me users.

Post anonymously?

Your poems are very positive

Thank you so much 💜💜

You are welcome dear